Wednesday, July 17, 2024
spot_img

लेटेस्ट न्यूज

Dussehra 2023: इस साल कब है दशहरा, 23 या 24 अक्तूबर को? जानें तिथि और रावण दहन का मुहूर्त

इस साल विजयादशमी की सही तारीख और रावण दहन के शुभ समय को लेकर लोग असमंजस में हैं। ऐसे में आइए जानते हैं कि इस साल विजयादशमी यानी दशहरा 23 अक्टूबर को है या 24 अक्टूबर को?

Dussehra 2023 Date And Ravan Dahan Muhurat: हर साल दशहरा का त्योहार आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। इसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है। पौराणिक कथा के अनुसार, त्रेता युग में इसी दिन अयोध्या के राजा प्रभु श्री राम ने लंकापति रावण का वध किया था और माता सीता को उसके चंगुल से मुक्त कराया था। तब से यह त्यौहार हर साल बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है। दशहरा यानि विजयदशमी के दिन लोग रावण का पुतला जलाते हैं। इस साल विजयादशमी की सही तारीख और रावण दहन के शुभ समय को लेकर लोग असमंजस में हैं। ऐसे में आइए जानते हैं कि इस साल विजयादशमी यानी दशहरा 23 अक्टूबर को है या 24 अक्टूबर को?

दशहरा 2023 कब है? When is Dussehra 2023?

इस वर्ष आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दसवीं तिथि 23 अक्टूबर को शाम 05:44 बजे से शुरू हो रही है। इसका समापन 24 अक्टूबर को दोपहर 03:14 बजे होगा. 24 अक्टूबर को उदया तिथि होने के कारण दशहरा यानी विजयादशमी का त्योहार 24 अक्टूबर को मनाया जाएगा।

दशहरा 2023 पर रावण दहन का मुहूर्त Auspicious time of Ravana Dahan on Dussehra 2023

दशहरे के दिन सूर्यास्त के बाद प्रदोष काल में रावण का पुतला जलाया जाता है। इस साल रावण दहन 24 अक्टूबर को शाम 5.43 बजे से किया जाएगा.

विजयादशमी 2023 शस्त्र पूजा मुहूर्त Vijayadashami 2023 Shastra Puja Muhurta

विजयादशमी के दिन शस्त्र पूजन किया जाता है। इस दिन विजय मुहूर्त में शस्त्रपूजन किया जाएगा। 24 अक्टूबर को विजय मुहूर्त दोपहर 01:58 बजे से 02:43 बजे तक है. इसके अलावा अभिजीत मुहूर्त या दिन का शुभ समय सुबह 11:43 बजे से 12:28 बजे तक है।

क्यों मनाया जाता है दशहरा? Why is Dussehra celebrated?
हिंदू धर्म में दशहरा यानी विजयादशमी का विशेष महत्व है। यह त्यौहार पूरे भारत में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है। इस दिन भगवान राम ने रावण का वध कर बुराई का अंत किया था। एक अन्य मान्यता के अनुसार इस दिन मां दुर्गा ने 9 दिनों के युद्ध के बाद महिषासुर का वध किया था. इसलिए यह त्यौहार हर साल बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

जरूर पढ़ें

Latest Posts

ये भी पढ़ें-