Thursday, July 18, 2024
spot_img

लेटेस्ट न्यूज

Ritu Karidhal: कौन हैं ‘रॉकेट वुमन’ रितु कारिधाल? जिनके कंधों पर है चंद्रयान 3 मिशन और भारत की अंतरिक्ष महत्वाकांक्षाएं

Chandrayaan 3 Launch Date and Time: चंद्रयान-3 के सफल लॉन्चिंग के बाद उत्तर प्रदेश के लखनऊ की रहने वाली डॉ. रितु कारिधल का नाम चर्चा का विषय बना हुआ है। इस लेख में, हम अंतरिक्ष अन्वेषण के क्षेत्र में डॉ. रितु करिधल की उपलब्धियों और योगदान के बारे में विस्तार से जानेंगे। 1975 में लखनऊ के एक साधारण घर में जन्मी Dr. Ritu Karidhal की आकर्षक दुनिया में कदम रखें, जहाँ चाँद, सितारों और विशाल आकाश ने उनके युवा दिल को मोहित कर लिया था। एक बच्ची के रूप में भी, हमारे वातावरण से परे रहस्यों के प्रति उसका जुनून उज्ज्वल था। वह इसरो और नासा के विस्मयकारी प्रयासों से संबंधित समाचार पत्रों के लेख, जानकारी और सूचनाएं एकत्र करती थी।

Dr. Ritu Karidhal ‘द राकेट वुमन’

आज भारत के लिए यह एक महत्वपूर्ण दिन है। Chandrayaan 3 चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के अनछुए इलाकों की ओर बढ़ते हुए अपनी यात्रा पर निकल पड़ा है, एक रहस्य जो सुलझने का इंतजार कर रहा है। पूरी दुनिया के वैज्ञानिक समुदाय इस असाधारण उपक्रम का उत्सुकता से अनुसरण करते हुए, प्रत्याशा में एकजुट है। हालाँकि, उत्तर प्रदेश के लखनऊ के लिए, यह मिशन और भी गहरा महत्व रखता है, क्योंकि यह डॉ. रितु कारिधल के आदेश पर श्रीहरिकोटा से उड़ान भरता है, जिन्हें भारत की ‘रॉकेट वुमन’ के नाम से जाना जाता है।

घटनाओं के एक रोमांचक मोड़ में, इसरो ने चंद्रयान -3 को उतारने की उल्लेखनीय जिम्मेदारी सम्मानित Dr. Ritu Karidhal को सौंपी है, जिससे उन्हें इस महत्वाकांक्षी प्रयास का मिशन निदेशक बनाया गया है। परियोजना निदेशक के रूप में उनकी सहायता पी. वीरा मुथुवेल कर रही हैं। डॉ. रितु, जिन्होंने पहले मंगलयान के उप संचालन निदेशक और Chandrayaan 2 में मिशन निदेशक के रूप में कार्य किया था, अब भारत के अंतरिक्ष अन्वेषण के इस असाधारण अध्याय में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। अपने पूर्ववर्ती से अलग, Chandrayaan 3 में एक ऑर्बिटर की कमी होगी, बल्कि इसमें एक प्रणोदन मॉड्यूल की सुविधा होगी, जो एक संचार उपग्रह के समान काम करेगा।

चाँद और सितारों के साथ आजीवन आकर्षण

डॉ. रितु करिधल का चाँद और सितारों के प्रति गहरा आकर्षण उनके शुरुआती दिनों से ही है। लखनऊ के एक मध्यम वर्गीय परिवार से आने वाली, वह रात के आकाश को सुशोभित करने वाले दिव्य चमत्कारों में तल्लीन होकर घंटों बिताती थी। अखबारों की कतरनें इकट्ठा करना, सूचनाएं एकत्र करना और इसरो तथा नासा से संबंधित तस्वीरों को संजोकर रखना उनका पसंदीदा शगल बन गया। अपने जुनून को और बढ़ाते हुए, उन्होंने आईआईएससी, बैंगलोर में शामिल होने से पहले, लखनऊ विश्वविद्यालय से भौतिकी में स्नातक और मास्टर डिग्री हासिल की, जहां उन्होंने मास्टर कार्यक्रम के माध्यम से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग के क्षेत्र में प्रवेश किया। इसरो के साथ उनकी यात्रा नवंबर 1997 में शुरू हुई, जब उन्होंने अपने उल्लेखनीय प्रक्षेप पथ के बीज बोते हुए एक इंजीनियर के रूप में अपना करियर शुरू किया।

राज्य के लिए अपार गौरव का स्रोत

Chandrayaan 3 के मिशन निदेशक के रूप में हमारी सम्मानित मूल बेटी और अपने क्षेत्र की अनुभवी विशेषज्ञ डॉ. रितु करिधल की हालिया नियुक्ति हमें असीम गर्व से भर देती है। यह उपलब्धि न केवल लखनऊ पर प्रकाश डालती है बल्कि पूरे राज्य को सामूहिक उपलब्धि की भावना से रोशन करती है। इस महत्वपूर्ण घटना को मनाने के लिए, इंदिरा गांधी तारामंडल में यूपी एमेच्योर एस्ट्रोनॉमर्स क्लब के सदस्यों को लॉन्च दिखाने की योजना पर काम चल रहा है। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद के इंदिरा गांधी तारामंडल के वैज्ञानिक अधिकारी सुमित कुमार श्रीवास्तव ने इस भव्य अवसर के लिए गर्मजोशी से अपनी आशा और उत्साह व्यक्त किया।

Dr. Ritu Karidhal के नेतृत्व में, चंद्रयान-3 भारत की “रॉकेट वुमन” के जुनून, समर्पण और अटूट भावना से प्रेरित एक महत्वपूर्ण यात्रा पर रवाना हुआ। जब हम चंद्रमा की सतह की अज्ञात गहराइयों में उतर रहे हैं, तो राष्ट्र हमारी वैज्ञानिक खोज में इस उल्लेखनीय अध्याय के खुलने का बेसब्री से इंतजार कर रहा है।

जरूर पढ़ें

Latest Posts

ये भी पढ़ें-