Thursday, July 18, 2024
spot_img

लेटेस्ट न्यूज

Ranbir Kapoor: महादेव गेमिंग ऐप मामले में रणबीर कपूर से पूछताछ करेगी ED, आखिर क्या है मामला?

महादेव ऐप से जुड़ा मनी लॉन्ड्रिंग मामला पिछले कुछ महीनों से चर्चा में है। ईडी ने कोलकाता, भोपाल, मुंबई और अन्य शहरों में बड़े पैमाने पर छापेमारी की. इस दौरान बहुत सारे सबूत इक्क्ठा किए गए हैं और 417 करोड़ रुपये की राशि जब्त की गई है।

Ranbir Kapoor summoned by ED: महादेव ऐप से जुड़ा मनी लॉन्ड्रिंग मामला पिछले कुछ महीनों से चर्चा में है। ईडी (ED) ने कोलकाता, भोपाल, मुंबई और अन्य शहरों में बड़े पैमाने पर छापेमारी की. इस दौरान बहुत सारे सबूत इक्क्ठा किए गए हैं और 417 करोड़ रुपये की राशि जब्त की गई है।

नई दिल्ली: ऑनलाइन जुआ खेलने वाले महादेव ऐप मामले में कुछ बॉलीवुड सेलिब्रिटीज के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। इस मामले में अब बॉलीवुड एक्टर रणबीर कपूर से भी ईडी (ED) पूछताछ करने वाली है. रणबीर कपूर को ईडी ने समन भेजा है और 6 अक्टूबर को पूछताछ के लिए पेश होने का आदेश दिया है. तो एक बार फिर ये मामला गरम हो गया है।

आख़िर मामला क्या है?

महादेव गेमिंग-बेटिंग एक ऑनलाइन सट्टेबाजी ऐप है। जिसके प्रमोटर सौरभ की शादी में कई बॉलीवुड एक्टर शामिल हुए. पिछले महीने ईडी ने महादेव ऐप को लेकर मुंबई, कोलकाता, भोपाल समेत देशभर में करीब 39 जगहों पर छापेमारी की थी. इस दौरान ईडी ने 417 करोड़ की संपत्ति भी जब्त की है.

इस ऐप के प्रमोटर सौरभ ने फरवरी में दुबई में शादी की थी. इस शादी समारोह के लिए सौरभ ने करीब 200 करोड़ रुपए खर्च किए थे। उनकी शादी में शामिल हुए सभी सेलिब्रिटी जांच एजेंसियों के रडार पर आ गए हैं. इन सेलिब्रिटीज में सनी लियोनी, टाइगर श्रॉफ, सिंगर नेहा कक्कड़, सिंगर विशाल ददलानी, कॉमेडी क्वीन भारती सिंह, भाग्यश्री, कृति खरबंदा, एली अवराम, नुसरत भरूचा, आतिफ असलम, राहत फतेह अली खान, अली असगर शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: PONZI SCAM: 1000 करोड़ के ऑनलाइन घोटाले में फंसे गोविंदा, अधिकारी बोले…

अधिकारियों ने कहा कि ईडी की जांच से पता चला है कि महादेव ऑनलाइन ऐप संयुक्त अरब अमीरात के एक केंद्रीय मुख्यालय से संचालित हो रहा है। चंद्राकर और उप्पल ने अवैध सट्टेबाजी के लिए महादेव ऑनलाइन बुक सट्टेबाजी एप्लिकेशन का उपयोग किया। इस ऐप के जरिये यूजर्स को 70 से 30 फीसदी मुनाफे की फ्रेंचाइजी ऑफर की जाती थी. सट्टेबाजी से प्राप्त धनराशि को विदेशी खातों में भेजने के लिए बड़ी संख्या में हवाला लेनदेन को अंजाम दिया गया। ईडी अधिकारियों ने कहा कि इसके अलावा, नए यूजर और फ्रेंचाइजी चाहने वालों को आकर्षित करने के लिए भारत से सट्टेबाजी वेबसाइटों के विज्ञापन पर भारी मात्रा में पैसा खर्च किया जा रहा था। चंद्राकर और उप्पल दोनों छत्तीसगढ़ के भिलाई के रहने वाले हैं।

जरूर पढ़ें

Latest Posts

ये भी पढ़ें-