Friday, June 21, 2024
spot_img

लेटेस्ट न्यूज

India Maldives Conflict: मोहम्मद मुइज्जू खड़ा करेंगे नया बवाल?

India Maldives Conflict: हाल ही में (9 जून) मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए भारत आए थे। खबरों के मुताबिक, संसदीय समिति ने भारत के साथ किए गए तीन समझौतों की समीक्षा करने का ऐलान किया है। खास बात यह है कि यह ऐलान उस समय किया गया जब मुइज्जू भारत में मौजूद थे।

India Maldives Conflict: हाल ही में (9 जून) मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए भारत आए थे। खबरों के मुताबिक, संसदीय समिति ने भारत के साथ किए गए तीन समझौतों की समीक्षा करने का ऐलान किया है। खास बात यह है कि यह ऐलान उस समय किया गया जब मुइज्जू भारत में मौजूद थे।

India Maldives Conflict: क्या हैं ये तीन समझौते?

इन तीन समझौतों में शामिल हैं:

  1. हाइड्रोग्राफिक सर्वेक्षण,
  2. भारत की अनुदान सहायता से निर्मित होने वाला उथुरु थिलाफल्हू डॉकयार्ड,
  3. मानवीय, खोज और बचाव कार्यों के लिए मालदीव के रक्षा बलों को भारत द्वारा उपहार में दिए गए डोर्नियर विमान के लिए समझौता।

मालदीव मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय हिताधू निर्वाचन क्षेत्र के सांसद अहमद अजान ने कहा कि आज संसद की राष्ट्रीय सुरक्षा सेवा समिति ने राष्ट्रपति सोलिह के प्रशासन द्वारा मालदीव की संप्रभुता और स्वतंत्रता को कमजोर करने वाली कार्रवाइयों की जांच करने के लिए संसदीय जांच का फैसला किया है।

उन्होंने आरोप लगाते हुए संसदीय जांच शुरू करने का प्रस्ताव रखा कि पिछली सरकार के कार्यों ने देश की स्वतंत्रता और संप्रभुता को प्रभावित किया।

यह भी पढ़े: KANGANA RANAUT के थप्पड़ कांड पर चिराग पासवान का बयान वायरल

मुइज्जू की सरकार ने पिछले साल घोषणा की थी कि वह मालदीव के जलक्षेत्र में संयुक्त हाइड्रोग्राफिक सर्वेक्षण के लिए भारतीय नौसेना के साथ समझौते को नवीनीकृत नहीं करेगी।

राष्ट्रपति मुर्मु से भी मुइज्जू ने की थी मुलाकात

राष्ट्रपति मुर्मु से भी मुइज्जू ने मुलाकात की। उन्होंने रविवार को मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में भाग लिया और सोमवार को राष्ट्रपति मुर्मु से मुलाकात की जिसमें उन्होंने मालदीव को भारत की निरंतर सहायता के लिए आभार व्यक्त किया।

उनके कार्यालय ने बताया कि वह मौजूदा संबंधों को और मजबूत बनाने के लिए तत्पर हैं।

विवाद तब शुरू हुआ जब तीन उप-मंत्रियों ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर प्रधानमंत्री मोदी की लक्षद्वीप यात्रा के बारे में पोस्ट के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया, जिसमें उन्होंने द्वीपों की प्राकृतिक सुंदरता और भारतीय पर्यटकों के लिए इसके संभावित आकर्षण का जश्न मनाया। दो पूर्व राष्ट्रपतियों – इब्राहिम सोलिह और मोहम्मद नशीद – ने मंत्रियों की टिप्पणियों की कड़ी निंदा की थी।

For Tech & Business Updates Click Here

जरूर पढ़ें

Latest Posts

ये भी पढ़ें-