spot_img

लेटेस्ट न्यूज

हैदराबाद पुलिस ने 750 करोड़ की नकदी के साथ पकड़ा ट्रक, जानिए क्या है मामला

हैदराबाद पुलिस और चुनाव आयोग की एक टीम ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक संदिग्ध ट्रक को रोका। इसमें 750 करोड़ रुपये की नकद रकम थी. जानिए आखिर क्या है पूरा मामला

Telangana Elections: हैदराबाद पुलिस और चुनाव आयोग की एक टीम ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक संदिग्ध ट्रक को रोका। इसमें 750 करोड़ रुपये की नकद रकम थी. लेकिन सच्चाई जानने के बाद इस ट्रक को छोड़ दिया गया. जानिए आखिर क्या है मामला…

आगामी तेलंगाना विधानसभा चुनाव के मद्देनजर गडवाल में राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) पर ड्यूटी के दौरान पुलिस और चुनाव आयोग की टीम को आधी रात के आसपास जबरदस्त ड्रामा देखना पड़ा। टीम ने हाईवे पर 750 करोड़ रुपये की नकदी ले जा रहे एक ट्रक को पकड़ा. यह देखकर पुलिस अधिकारी भी हैरान रह गए। जब चुनाव अधिकारी इस मामले में कार्रवाई करने वाले थे तो उनके सामने असली स्थिति आ गई और उन्हें ट्रक छोड़ना पड़ा. अंत में क्या हुआ..

गडवाल से होकर गुजरने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग तस्करी के लिए कुख्यात है। दिल्ली में तेलंगाना चुनाव कार्यक्रम की घोषणा करने से पहले, मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार, जो हैदराबाद के दौरे पर थे, ने राज्य चुनाव अधिकारियों को गोवा और अन्य स्थानों से हैदराबाद में तस्करी पर अंकुश लगाने का निर्देश दिया था। विपक्ष की शिकायतों के बाद चुनाव आयोग ने एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी, चार कलेक्टर और वरिष्ठ अधिकारियों का तबादला कर दिया था.

यह भी पढ़ें: मजदूर के खाते में आए 2 अरब 21 करोड़ रुपये, आयकर विभाग का नोटिस देख उड़े होश!

चुनाव आयोग की सख्ती के बाद राज्य चुनाव अधिकारी और पुलिस अलर्ट पर हैं. पुलिस की एक टीम ने मंगलवार की रात संदिग्ध लगने पर सड़क पर एक ट्रक को रोका। इस मामले में जानकारी देते हुए तेलंगाना पुलिस के नोडल अधिकारी संजय कुमार जैन ने बताया कि चेकिंग के दौरान ट्रक से 750 करोड़ रुपये की नकदी जब्त की गई.

सच्चाई का पता चलते ही चला गया ट्रक –
कुछ घंटों के सस्पेंस के बाद मामला बिना किसी हलचल के शांत हो गया. क्योंकि पता चला कि ये कैश यूनियन बैंक ऑफ इंडिया का था जो केरल से हैदराबाद लाया जा रहा था. तेलंगाना के मुख्य निर्वाचन अधिकारी विकास राज ने बुधवार को एक बयान में कहा कि बैंक अधिकारियों के जवाब के बाद ट्रक को छोड़ दिया गया। विकास राज ने कहा कि 750 करोड़ कैश वाला ट्रक कुछ घंटों तक चर्चा में रहा. लेकिन बाद में हमें एहसास हुआ कि यह चेस्ट-टू-चेस्ट मनी ट्रांसफर था। इसके बाद पुलिस ने ट्रक ले जाने की इजाजत दे दी.

जरूर पढ़ें

Latest Posts

ये भी पढ़ें-